करंट अफेयर्स अपडेट 12 जुलाई 2017

Current affairs 12 July 2017 

•    वह देश जिसे आईएस आतंकी संगठन से लड़ने के लिए भारत ने 3.2 करोड़ रुपये दिए हैं – फिलीपिंस
•    आधार संबंधी याचिकाओं की सुनवाई के लिए इतने जजों की संविधान पीठ बनाई गयी है – पांच
•    इन्हें भारतीय क्रिकेट टीम के लिए बॉलिंग कोच बनाया गया है – जहीर खान
•    उपराष्ट्रपति चुनाव के लिए विपक्षी दलों द्वारा इन्हें उम्मीदवार घोषित किया गया – गोपालकृष्ण गांधी
•    भारत सरकार द्वारा भारत-चीन सीमा पर इतनी रणनीतिक सड़कों के निर्माण को मंजूरी दी गयी – 73
•    केंद्र सरकार द्वारा धार्मिक संस्थानों पर श्रद्धालुओं को दी जाने वाली वह सुविधा जिसे जीएसटी मुक्त रखने की घोषणा की गयी – निःशुल्क भोजन
•    इस्लामिक स्टेट के उस आतंकी सरगना का नाम, जिसके हाल ही में मारे जाने की घोषणा की गयी – अबू बकर अल-बगदादी
•    भारतीय रेलवे संगठन को वैकल्पिक ईंधन प्रयोग करने के कारण यह पुरस्कार प्राप्त हुआ- गोल्डन पीकॉक
•    रक्ताधान चिकित्सा के उत्कृष्ट केंद्र स्थापित करने हेतु जिस राज्य की सरकार के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किया गया है- पश्चिम बंगाल
•    जिस राज्य सरकार ने ‘आवारा कुत्तों हेतु चिड़ियाघर’ का प्रस्ताव किया है- केरल
•    हाल ही में सरकार ने चीनी पर आयात शुल्क को बढ़ाकर जितने प्रतिशत कर दिया है- 50%
•    जिस कंपनी को भारत में फूड प्रोडक्टक की रिटेल बिक्री में 50 करोड़ डॉलर के प्रत्यक्ष विदेशी निवेश प्रस्ताव को सरकार ने मंजूरी प्रदान की है- अमेजन
•    यूपीआई भुगतानों के लिए जिसे मंजूरी मिली है- व्हाट्सएप
•    हाल ही में जिस यूनिवर्सिटी के खगोल वैज्ञानिकों ने ब्रह्मांड का सबसे छोटा तारा खोज लिया- कैंब्रिज यूनिवर्सिटी
•    भारत जिस प्रमुख देश से पहली बार कच्चे तेल का आयात करने जा रहा है- अमेरिका
Current affairs 12 July 2017 
1. हाल ही में हिमाचल प्रदेश के राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल के महानिदेशक रूप में किसे नियुक्त किया गया है?
हिमाचल प्रदेश के आपदा प्रतिक्रिया बल के महानिदेशक रूप में संजय कुमार को नियुक्त किया गया है| संजय कुमार हिमाचल प्रदेश कैडर के 1985 बैच के भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) अधिकारी है| वर्तमान में संजय कुमार हिमाचल प्रदेश के पुलिस महानिदेशक के पद कार्यरत है|
2. हाल ही में हिमाचल प्रदेश के डीजीपी के रूप में किसे नियुक्त किया गया है?
हिमाचल प्रदेश के डीजीपी के रूप में सुमेश गोयल को नियुक्त किया गया है| सुमेश गोयल 1984 बैच के आईपीएस अधिकारी है| सुमेश गोयल हिमाचल प्रदेश के सीनियर आईपीएस अधिकारी है| वर्तमान में आईपीएस सुमेश गोयल जेल विभाग के डीजीपी के पद पर कार्यरत हैं।
3. “मैत्री-17” क्या है?
“मैत्री-17” संयुक्त सैन्य प्रशिक्षण अभ्यास है| हाल ही में यह अभ्यास भारतीय सेना और रॉयल थाईलैंड सेना के मध्य शुरू किया गया है| इसका उद्देश्य भारतीय सेना और रॉयल थाईलैंड सेना के मध्य समन्वय स्थापित करना तथा अपनी योग्यता का आदान-प्रदान करना है| इससे पहले संयुक्त अभ्यास 2016 में थाईलैंड के कर्बी में आयोजित किया गया था|
4. ‘नस’ क्या है?
‘नस’ पाकिस्तान द्वारा निर्मित बैलिस्टिक मिसाइल है| यह मिसाइल कम दूरी के सतह से सतह तक मार करने वाली बैलस्टिक मिसाइल है| यह उच्च क्षमता वाली हथियार प्रणाली है, जिसे कम समय में काम पर लगाया जाना संभव है| हाल ही में इसका सफल परिक्षण किया गया है|
5. हाल ही में अमेरिका के प्रतिष्ठित “ट्राफिकिंग इन पर्सस” पुरस्कार से किसे सम्मनित किया गया है?
अमेरिका के प्रतिष्ठित “ट्राफिकिंग इन पर्सस” पुरस्कार से भारतीय पुलिस अधिकारी महेश मुरलीधर भागवत को सम्मानित किया गया है| भागवत को यह पुरस्कार मानव तस्करी से लड़ने के अपने अथक प्रयासों के लिए दिया गया है| वर्तमान में भागवत तेलंगाना में राचकोंडा के पुलिस आयुक्त के पद पर कार्यरत है|
6. हाल ही में एशियाई स्नूकर चैंपियनशिप का ख़िताब किसने जीता है?
एशियाई स्नूकर चैंपियनशिप का ख़िताब पंकज अडवाणी ने जीता है| एशियाई स्नूकर चैंपियनशिप के फाइनल मुकाबले में पंकज अडवाणी ने पाकिस्तान मोहम्मद बिलाल और बाबर मसिह को 3-0 से हराकर यह ख़िताब जीता है| इस चैंपियनशिप में पंकज अडवाणी के जोड़ीदार लक्ष्मण रावत है| अडवाणी ने 6 बिलियर्ड्स, एफ 6-रेड और एक टीम स्नूकर का ख़िताब जीत चुके है| वाही लक्ष्मण रावत का ये पहला अन्तर्राष्ट्रीय ख़िताब है|
7. झूलन गोस्वामी का संबंध किस खेल से है?
झूलन गोस्वामी का संबंध भारतीय महिला क्रिकेट टीम से है| गोस्वामी भारतीय क्रिकेट टीम की पूर्व कप्तान है| गोस्वामी महिला क्रिकेट में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाली एकमात्र महिला गेंदबाज है| इनके नाम तीनों प्रारूपों में मिलाकर 271 विकेट दर्ज है| इन्हें 2007 में आईसीसी द्वारा साल की सर्वश्रेष्ठ महिला खिलाडी चुना गया था| इन्हें अर्जुन पुरस्कार तथा पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है|
8. भारत का सबसे बड़ा एयर ट्रैफिक कंट्रोल (एटीसी) टॉवर कहाँ पर बनाया गया है?
भारत का सबसे बड़ा एयर ट्रैफिक कंट्रोल (एटीसी) टॉवर दिल्ली में बनाया गया है| यह टॉवर क़ुतुब मीनार से भी 40 फीसदी अधिक बड़ा है| यह 102 मीटर ऊँचा है| ऊंचाई के मामलें में इस टॉवर का विश्व में 7वां स्थान है| इसके ऊपरी हिस्से में बने विजुअल टॉवर में 21 एटीसी नियंत्रक तथा निचले तल पर स्थित कंट्रोल रूम में विमान संचालन करने वाले 12 ग्राउंड कंट्रोलर के बैठने की व्यवस्था है| वर्तमान में विश्व का सबसे ऊँचा एटीसी टॉवर बैंकॉक के सुवर्नभूमि एयरपोर्ट है| इसकी ऊंचाई 132.2 मीटर है|
9. नेशनल बुक ट्रस्ट की स्थापना कब की गई थी?
नेशनल बुक ट्रस्ट की स्थापना 1957 में की गई थी| नेशनल बुक ट्रस्ट मानव संसाधन विकास मंत्रालय के अधीन स्वायत्तशासी संगठन है| यह विभिन्न श्रेणियों के अंतर्गत हिंदी, अंग्रेजी तथा अन्य प्रमुख भारतीय भाषाओँ एवं ब्रेल लिपि में पुस्तकें प्रकाशित करता है| इसका उद्देश्य पुस्तक पठान को प्रोत्साहन, विदेशों में भारतीय पुस्तकों को प्रोत्साहन, लेखकों और प्रकाशकों को सहायता तथा बाल साहित्य को बढ़ावा देना है| नेशनल बुक ट्रस्ट के द्वारा हर दो वर्ष में विश्व पुस्तक मेला आयोजित करता है, जो एशिया और अफ्रीका का सबसे बड़ा पुस्तक मेला होता है|
10. हाल ही में “ड्री उत्सव” कहाँ पर मनाया जा रहा है?
“ड्री उत्सव” भारत के अरुणाचल प्रदेश में मनाया जा रहा है| इस उत्सव के माध्यम से समाज में विनाशकारी शक्तियों की हार के साथ-साथ अपतानी अपने पारंपरिक देवताओं से भरपूर फसल के मौसम में आने के प्रार्थना करते है| यह उत्सव भव्य समारोह और समुदाय के उत्सवों द्वारा चिन्हित है| इस उत्सव में पारंपरिक गाने और नृत्य मुख्य आकर्षण होते है|
1.मोसुल फतह बड़ी सफलता : संयुक्त राष्ट्र
• संयुक्त राष्ट्र ने आईएस के कब्जे वाले इराकी शहर मोसुल पर पुन:नियंतण्र को आतंकवाद और हिंसक उग्रवाद के खिलाफ लड़ाई में एक महत्वपूर्ण कदम करार देते हुए विस्थापित समुदायों की सहायता करने और मुक्त कराये गये क्षेत्रों में कानून का शासन बहाल करने में समर्थन देने का वादा किया है।
• संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटारेस ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र विस्थापित समुदायों की स्वैच्छिक, सुरक्षित और प्रतिष्ठित वापसी हेतु आवश्यक परिस्थितियां बहाल करने के लिए इराकी सरकार के साथ खड़ी होगी। साथ ही मुक्त कराए गये क्षेत्रों में कानून का शासन, हिंसा को रोकने और सभी कानूनी उल्लंघनों को रोकने के लिए जवाबदेही तय करने में अपना सहयोग प्रदान करेगी।
• इराक ने मोसुल में इस्लामिक स्टेट समूह पर पूर्ण जीत घोषित किया है। तीन साल के बाद देश के दूसरे सबसे बड़े शहर पर पूर्ण नियंतण्रहासिल किया है।

 

• इस शहर पर चरमपंथियों ने कब्जा कर लिया था। महासचिव के प्रवक्ता द्वारा जारी उनके बयान में कहा गया है, आतंकवाद और हिंसक उग्रवाद के खिलाफ लड़ाई में मोसुल पर कब्जा एक महत्वपूर्ण कदम है। गुटेरेस ने इराकी सरकार के लोगों की साहस, प्रतिबद्धता 

और दृढ़ता की भी प्रशंसा की है। 
• संयुक्त राष्ट्र के को-आर्डिनेशन ऑफ ह्यूमेनेटेरियन अफेयर्स (ओसीएचए) का कहना है कि अक्टूबर 2016 में मोसुल पर पुन:नियंतण्र के लिए सैन्य अभियान शुरू होने के बाद से करीब 9,20,000 नागरिकों ने अपना घर छोड़ा है।
2. सैन्य टकराव चीन की चाल : यथास्थिति में इंच दर इंच परिवर्तन लाता है चीन : विशेषज्ञ*
• अमेरिका के एक शीर्ष विशेषज्ञ ने कहा कि डोकलाम इलाके में भारतीय और चीनी सेनाओं के बीच टकराव गुपचुप तरीके से चली जा रही चीन की चाल का हिस्सा हो सकता है, जिसके जरिये वह यथास्थिति में इंच दर इंच का परिवर्तन लाता है।

 

• इससे आगे जाकर उसे रणनीतिक लाभ मिल सकता है। भूटान तिराहे के पास सिक्किम सेक्टर के डोकलाम इलाके में चीनी सेना के एक निर्माण दल के एक सड़क बनाने के प्रयास के बाद दोनों देशों की सेनाओं के बीच तीन सप्ताह से भी अधिक समय से गतिरोध जारी है।
• ओबामा प्रशासन के दौरान विदेश विभाग में कार्यरत रहीं एक पूर्व अधिकारी एलिसा आयरेस ने बताया, सीमा पर टकराव को लेकर हम चिंतित हैं, और निश्चित तौर पर भारत में भी कोई लोग चिंतित होंगे।
•  विदेश संबंध परिषद में भारत, पाकिस्तान और दक्षिण एशिया मामलों की सीनियर फैलो आयरेस ने कहा कि यह चीन की वृहत चाल का हिस्सा है, जिसे विवादित दक्षिण चीन सागर में भी देखा जा सकता है। 
• उन्होंने कहा कि यह लंबे समय में रणनीतिक लाभ लेने के लिए चीन की इंच-दर-इंच पर कब्जा करने की चीन की नीति का हिस्सा है। 
• जॉन हाप्किंस विविद्यालय के पॉल एच नित्जे स्कूल ऑफ एंडवांस्ड इंटरनेशनल स्टडीज के अंतरराष्ट्रीय संबंध विभाग में सीनियर रिसर्च प्रोफेसर डेनियल मर्की ने कहा, वह इस बात को लेकर बहुत अधिक चिंतित नहीं क्योंकि भारत और चीन सीमा विवाद को लेकर शांतिपूर्ण रास्ता अख्तियार करते रहे हैं। 
• उन्होंने कहा, दशकों से वह कूटनीतिक तरीके से और गंभीर हिंसा के बिना इस तनाव को संभालने की क्षमता दिखाते रहे हैं। मर्की ने कहा, लेकिन मैं इस आशंका से अधिक चिंतित हूं कि तिब्बत और पाकिस्तान जैसे क्षेत्रों में तनाव के कारण इस विवाद को संभालना ज्यादा मुश्किल होगा। 
• विदेश सचिव एस. जयशंकर ने मंगलवार को कहा कि भारत एवं चीन अतीत में भी सीमा विवादों से निपट चुके हैं और इस बात का कोई कारण नहीं है कि इस बार दोनों देश इससे निपट नहीं पाएंगे।
•  जयशंकर ने कहा, यह लंबी सीमा है, जैसा कि आप जानते हैं कि जमीनी स्तर पर इसे लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं है। ऐसे में समय समय पर विवाद होना संभावित है। 
• उन्होंने भारत-आसियान एवं बदलती भू-राजनीति विषय पर एक व्याख्यान के दौरान सिक्किम सेक्टर के डोकालाम में भारतीय एवं सैन्य बलों के बीच मुठभेड़ को लेकर प्रश्नों का उत्तर देते हुए यह बात कही। इस व्याख्यान का आयोजन ली कुआन स्कूल ऑफ पब्लिक पॉलिसी एवं भारतीय उच्चायोग ने किया था।
• जयशंकर ने इस बात को रेखांकित किया कि भारत और चीन के बीच सीमा विवाद पहली बार नहीं हुआ है। उन्होंने कहा, हम पहले भी इस प्रकार की स्थिति से निपटे हैं, इसलिए मुझे ऐसा कोई कारण नजर नहीं आता कि ऐसी स्थिति पैदा होने पर हम इससे निपट नहीं पाएंगे। 
⭕भूटान, भारत एवं चीन की सीमा के निकट डोकलाम में चीनी सेना के निर्माण दल ने एक सड़क बनाने की कोशिश की थी जिसके बाद तीन सप्ताह से वहां भारत एवं चीन के बीच गतिरोध बना हुआ है।

3. कतर के पक्ष में आया अमेरिका

• खाड़ी संकट ने नया मोड़ लिया है। अमेरिका ने ताजा विवाद में कतर के पक्ष को मुनासिब करार दिया है। अमेरिकी विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने कतर के अपने समकक्ष से मुलाकात के बाद कूटनीतिक विवाद को शांतिपूर्ण तरीके से निपटाने की दिशा में प्रगति होने की उम्मीद जताई है। 
• इससे पहले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सऊदी अरब के प्रति समर्थन व्यक्त किया था।
• सऊदी अरब, बहरीन, यूएई और मिस्र ने पांच जून को आतंकी गुटों को धन मुहैया कराने और ईरान के साथ गठजोड़ करने का आरोप लगाते हुए कतर पर प्रतिबंध लगा दिया है। साथ ही विवाद को निपटाने के लिए दोहा के समक्ष मांगपत्र रख कर उस पर अमल करने को कहा है।
•  कतर ने इसे सिरे से खारिज कर दिया है। इससे तनाव और बढ़ गया है। आतंकवाद से लड़ाई में व्यवधान पैदा होने और क्षेत्र में ईरान की मौजूदगी बढ़ने की आशंका के साथ अमेरिका, ब्रिटेन और कुवैत खाड़ी संकट को सुलझाने में जुट गए हैं। इसी के तहत टिलरसन दोहा पहुंचे हैं। 
• कतर के विदेश मंत्री शेख मुहम्मद बिन अब्दुल रहमान अल-थानी से मंगलवार को मुलाकात के बाद टिलरसन ने कहा, ‘मैं इस विवाद को सुलझाने की दिशा में प्रगति होने को लेकर आशावान हूं। मेरी समझ में कतर अपने पक्ष को लेकर पूरी तरह स्पष्ट है। यह उचित भी है।’ इससे पहले मंगलवार को टिलरसन ने ब्रिटेन के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मार्क सेडविल और कुवैती अधिकारियों से मुलाकात की थी। 
• टिलरसन कतर के अमीर शेख तमीम बिन हमाद अल-थानी से भी मुलाकात करेंगे। मालूम हो कि कतर स्थित उदिद एयर बेस मध्य-पूर्व में अमेरिका का सबसे बड़ा सैन्य अड्डा है। सीरिया और इराक में इस्लामिक स्टेट के खिलाफ यहीं से सैन्य कार्रवाई संचालित की जा रही है। 
• टिलरसन सऊदी अरब भी जाएंगे, जहां वह मिस्र, बहरीन, यूएई और सऊदी के विदेश मंत्री से बुधवार को मिलेंगे।1आतंकियों को समर्थन देने के आरोप का कतर लगातार खंडन करता रहा है। प्रतिबंध खत्म करने के लिए चारों देशों ने कतर के समक्ष अलजजीरा टीवी चैनल को बंद करने, तुर्की सैन्य अड्डे को हटाने  और ईरान के साथ संबंधों को कम करने की मांग रखी है। 
• कतर ने इसे स्वतंत्र विदेश नीति में हस्तक्षेप बताते हुए मानने से इन्कार कर दिया है।
*⭕• सऊदी अरब ने दिया समझौते का हवाला*: सऊदी अरब ने कतर पर वर्ष 2013 में हुए करार को तोड़ने का आरोप लगाया है। इसमें दोहा ने पड़ोसी देशों के मामलों में हस्तक्षेप न करने का वादा किया था। 
• बहरीन, मिस्र, सऊदी अरब और यूएई ने साझा बयान जारी कर दोहा पर करार को तोड़ने का आरोप मढ़ा है। वहीं, कतर ने संप्रभुता पर हमला करने का आरोप लगाते हुए सऊदी और यूएई द्वारा रियाद समझौते का उल्लंघन करने की बात कही है। 
• दोनों पक्षों के रुख से तनाव कम होने के बजाय उसके बढ़ने की आशंका गहरा गई है।
4. उत्तर कोरिया पर दबाव बढ़ाने की मांग से बौखलाया चीन*
• उत्तर कोरिया पर दबाव बढ़ाने की अंतरराष्ट्रीय मांग से चीन बौखला गया है। भड़के बीजिंग ने ‘चाइना रिस्पांसिबिलीटी थ्योरी’ (चीनी जवाबदेही सिद्धांत) को तत्काल बंद करने की मांग की है। चीन ने सभी पक्षों से प्योंगयांग पर दबाव डालने को कहा है।
• उत्तर कोरिया पर दबाव बढ़ाने को लेकर मंगलवार को पूछे गए सवाल पर चीनी विदेश मंत्रलय के प्रवक्ता गेंग शुआंग ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। 
• उन्होंने कहा, ‘हाल में कुछ लोग कोरियाई प्रायद्वीप में परमाणु मुद्दे को बढ़ा-चढ़ा कर पेश करने लगे हैं। साथ ही ‘चीनी जवाबदेही सिद्धांत’ को भी महत्व देने लगे हैं। मेरी समझ में यह या तो इस मसले पर पूरी और सही जानकारी का अभाव का नतीजा है या फिर जिम्मेदारी दूसरे के ऊपर डालने का अप्रत्यक्ष प्रयास है।’ 
• गेंग ने अमेरिका का नाम लिए बगैर हमला बोला। उन्होंने कहा कि खुद कुछ न करना और दूसरों को कदम उठाने की नसीहत देना सही नहीं है। पीठ में छुरा घोंपना भी उचित नहीं है।
• गेंग शुआंग ने अमेरिका और दक्षिण कोरिया द्वारा किए जा रहे सैन्य परीक्षण से स्थिति और बिगड़ने की बात कही है। उन्होंने चीनी कंपनियों पर प्रतिबंध लगाने के अमेरिकी कदम की शिकायत भी की है। इसके अलावा दक्षिण कोरिया में थाड तैनात करने पर भी चिंता जताई है। 
• गेंग ने कहा कि चीन आग को बुझाना चाहता है तो दूसरे लोग उसमें और तेल डाल देते हैं। ऐसे में बीजिंग का प्रयास रंग नहीं ला सकता है।
*🔵⭕• बढ़ रहा दबाव :*

 उत्तर कोरिया द्वारा इंटर कांटिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल का परीक्षण करने के बाद अंतरराष्ट्रीय समुदाय की चिंता बढ़ गई है। चीन, प्योंगयांग का एकमात्र सबसे बड़ा सहयोगी देश है। अमेरिका समेत तमाम देश चीन से दबाव बढ़ाने की मांग कर रहे हैं। 
• जी-20 शिखर सम्मेलन के दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीनी समकक्ष शी चिनफिंग के समक्ष यह मुद्दा उठाया था। ट्रंप का लहजा नरम था, लेकिन उन्होंने उत्तर कोरिया पर लगाम लगाने के लिए बीजिंग द्वारा पर्याप्त प्रयास नहीं करने की बात कही थी।
5. उपराष्ट्रपति चुनाव : गोपालकृष्ण गांधी होंगे विपक्ष के उम्मीदवार*
• विपक्ष ने पश्चिम बंगाल के पूर्व राज्यपाल गोपालकृष्ण गांधी को उपराष्ट्रपति पद के लि:ए अपना उम्मीदवार चुना है। सूत्रों ने बताया कि उपराष्ट्रपति चुनाव के लिए अपना उम्मीदवार तय करने के लिए मंगलवार को जब 18 विपक्षी दलों की बैठक हुई तो केवल गांधी के नाम पर ही र्चचा की गई। 
• राष्ट्रपति चुनाव पर विपक्ष से अलग रुख अपनाने वाली जदयू भी बैठक में शामिल हुई जिसमें उपराष्ट्रपति पद के लिए महात्मा गांधी के पौत्र को प्रत्याशी चुना गया। 
*• बैठक में जदयू की ओर से* शरद यादव ने प्रतिनिधित्व किया। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, उपाध्यक्ष राहुल गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, तृणमूल कांग्रेस के डेरेक ओ ब्रायन, माकपा के सीताराम येचुरी, एनसी के उमर अब्दुल्ला, सपा के नरेश अग्रवाल, बसपा के सतीश चंद्र मिश्रा, जनता दल (सेक्यूलर) के देवगौड़ा और राजद के अजीत सिंह समेत अन्य नेता बैठक में शामिल हुए।
•  बैठक में शामिल होने वाले अन्य नेताओं में राजद के जय प्रकाश यादव, जेएमएम के हेमंत सोरेन, भाकपा के डी राजा और सीएमके, राकांपा, केरल कांग्रेस के प्रतिनिधि हैं। अगर जरूरत पड़ी तो उपराष्ट्रपति पद के लिए पांच अगस्त को मतदान कराया जाएगा। उसी दिन शाम को वोटों की गिनती होगी।
6. वित्त मंत्री अरुण जेटली ने दिया सुझाव :  असंगठित क्षेत्र को ज्यादा कर्ज दें बैंक*
• केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने मंगलवार को नाबार्ड और बैंकों सहित वित्तीय संस्थानों से ऐसे लोगों को ऋण देने को कहा जो कि अभी तक इससे वंचित रहे हैं। उन्होंने कहा कि इससे असंगठित क्षेत्र में रोजगार बढ़ाने में मदद मिलेगी।
• जेटली ने यहां राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) के कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि यह तय है कि असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले लोगों की संख्या संगठित क्षेत्र से कहीं अधिक है। लेकिन उन्हें ऋण पाने में काफी परेशानी झेलनी पड़ती है।
• उन्होंने जोर देकर कहा कि यदि बैंकों और वित्तीय संस्थानों के संसाधनों को विभिन्न योजनाओं के जरिए असंगठित क्षेत्र को स्थानांतरित किया जाता है तो इससे रोजगार के अधिक अवसर पैदा होंगे। 
• स्वयं सहायता समूहों (एसएचजी) के फायदे गिनाते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि वे काफी तेजी से आगे आए हैं और उन्होंने ग्रामीण क्षेत्रों में लाखों लोगों को रोजगार दिया है।
• उन्होंने कहा कि ज्यादातर एसएचजी महिलाओं की अगुवाई वाले हैं, इससे ग्रामीण इलाकों की महिलाओं

 को वित्तीय सुरक्षा मिली है। 
• उन्होंने स्वयं सहायता अभियान 25 साल पहले कुछ इकाइयों के साथ शुरू हुआ था। आज इन इकाइयों की संख्या 85 लाख को पार कर गई है। 
• वित्त मंत्री ने विकास की धारा से वंचित लोगों तक बैंकिंग तथा वित्त पोषण की सुविधाएं पहुंचाने के लिए नाबार्ड की खूब तारीफ की। उन्होंने कहा अर्थव्यवस्था जब तेज विकास करती है तो वर्ग विशेष को उसका स्वाभाविक लाभ मिलता है। 
• शहरी क्षेत्र को, व्यवसाय करने वालों और व्यवस्थित

 अर्थव्यवस्था से जुड़े लोगों को इसका ज्यादा लाभ मिलता है।

 

• असंगठित क्षेत्र में काम करने वालों की संख्या संगठित क्षेत्र से है काफी ज्यादा
• लेकिन इन्हें बैंकों से कर्ज पाने में झेलनी पड़ती है भारी परेशानी
• देश के विकास में अहम भूमिका निभा रहे हैं स्वयं सहायता समूह
• इनके जरिए ग्रामीण क्षेत्रों में लाखों लोगों को मिल रहा है रोजगार
7. जबरन न हो बैंकों का विलय : रंगराजन*

• भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के पूर्व गवर्नर सी. रंगराजन ने मंगलवार को कहा कि बैंकों का विलय जबरन नहीं किया जाना चाहिए बल्कि यह बैंकों की इच्छा पर उनकी जरूरत के हिसाब से होना चाहिए। साथ ही उन्होंने एनपीए की समस्या से निपटने के लिए बीच का रास्ता

 अपनाए जाने की वकालत की।
• रंगराजन ने राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) के 36वें स्थापना दिवस की पूर्व संध्या पर यहां आयोजित एक कार्यक्रम के बाद बैंकों के विलय के बारे में पत्रकारों से कहा इसकी पहल बैंकों की ओर से होनी चाहिए जब उन्हें इसकी जरूरत महसूस हो। 
• उन्हें इसके लिए मजबूर नहीं किया जाना चाहिए। दुनिया भर में बड़े बैंकों में छोटे बैंकों का विलय होता है। समाज की जरूरत के हिसाब से अर्थव्यवस्था में कुछ बड़े बैंक होते हैं, कुछ छोटे बैंक होते हैं, कुछ स्थानीय बैंक भी होते हैं। यही वित्तीय तंत्र की विविधता है।
• आरबीआई द्वारा गैर निष्पादित परिसंपत्तियों वाले 12 बड़े ऋण खातों पर कार्रवाई तेज करने के बारे में रंगराजन ने कहा कि बैंकों के बैलेंसशीट की सफाई जरूरी है। 
• उन्होंने कहा कि सबसे अच्छा रास्ता यही है कि बैंकों को भी ऋणों का कुछ सामंजस्य करना चाहिए।
8. पशु खरीद-फरोख्त के नए नियमों पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक
• सुप्रीम कोर्ट ने वध के लिए पशुओं की खरीद-फरोख्त के मामले में केंद्र सरकार की अधिसूचना पर रोक लगाने वाले मद्रास हाईकोर्ट के आदेश को पूरे देश पर लागू कर दिया है। अब केंद्र की अधिसूचना पर पूरे देश में रोक लागू हो गई है और पशुओं की खरीद-फरोख्त पहले की तरह ही हो सकेगी, जैसे केंद्र की अधिसूचना जारी होने से पहले होती थी। 
• सुप्रीम कोर्ट के इस आदेश के बाद बकरीद में पशुओं की खरीद-फरोख्त को लेकर बनी असमंजस की स्थिति फिलहाल खत्म हो गई है। 
• मुख्य न्यायाधीश जेएस खेहर की अध्यक्षता वाली पीठ ने मंगलवार को ये आदेश केंद्र सरकार के वकील पी. नरसिम्हा के इस बयान के बाद जारी किए जिसमें उन्होंने कहा था कि केंद्र सरकार मद्रास हाईकोर्ट की मदुरै पीठ की अधिसूचना पर रोक के आदेश का विरोध नहीं कर रही है। न ही सरकार हाईकोर्ट का रोक आदेश हटाने की मांग कर रही है। 

• उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार इस मसले पर आई लोगों की आपत्तियों और ज्ञापनों पर विचार कर रही है और पूरे मामले को नए सिरे से देखा जा रहा है। फिलहाल सरकार इस पर कुछ नहीं करने जा रही। 
• केंद्र सरकार के इस बयान के बाद कोर्ट ने अधिसूचना को चुनौती देने वाली मुहम्मद अब्दुल फहीम कुरैशी की याचिका निपटा दी। इसके साथ ही कोर्ट ने कहा कि सरकार की नई अधिसूचना आने पर अगर याचिकाकर्ता को उसमें कुछ लगता है तो वह फिर कोर्ट आ सकता है।

 

• इससे पहले याचिकाकर्ता के वकील कपिल सिब्बल ने पीठ से कहा कि मद्रास हाईकोर्ट के रोक के आदेश के बावजूद व्यापारियों को दिक्कत आ रही है और उन्हें नोटिस दिए जाते हैं। इस पर कोर्ट ने मद्रास हाईकोर्ट का रोक आदेश पूरे देश में लागू करते हुए कहा कि जब तक केंद्र सरकार अधिसूचना को दोबारा अधिसूचित नहीं करती तब तक रोक बनी रहेगी। 
• सुप्रीम कोर्ट कोर्ट ने ये भी कहा कि केंद्र सरकार जब दोबारा अधिसूचना जारी करे तो लोगों को पर्याप्त वक्त दिया जाना चाहिए। कोर्ट जब याचिका निपटाने लगा तो सिब्बल ने कहा कि इस मामले में कानूनी सवाल तो केंद्र और राज्य के अधिकार क्षेत्र का है।