दैनिक समसामयिकी 06 मार्च 2019

प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन योजना शुरू

प्रधानमंत्री श्रम योगी मानधन पेंशन योजना की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को गुजरात के अहमदाबाद में की। इसके शुरू होने से असंगठित क्षेत्र में कार्यरत श्रमिकों को बड़े पैमाने पर लाभ होगा। महज 55 रुपये से 200 रुपये महीने भरकर 18 से 40 वर्ष का कोई भी श्रमिक 60 वर्ष की उम्र का होने पर न्यूनतम 3,000 रुपये की पेंशन का हकदार होगा। इसका लाभ लेने के लिए सड़क, दुकान, फैक्ट्री, ठेला, सफाई, अखबार, सब्जी व अन्य सामानों की फेरी लगाने वाले और चाय बेचने वाले भी कॉमन सर्विस सेंटर पर जाकर अपना पंजीकरण करा सकते हैं। सरकार के मुताबिक, 31 मार्च तक देश के एक करोड़ श्रमिकों को इससे जोड़ा जाएगा।

पी.के. बेजबरुआ को पुनः टी बोर्ड का चेयरमैन नियुक्त किया गया

केन्द्रीय वाणिज्य व उद्योग मंत्रालय ने हाल ही पी.के. बेजबरुआ को पुनः टी बोर्ड के चेयरमैन नियुक्त किये जाने को मंज़ूरी दी। वे टी बोर्ड के पहले गैर-आईएएस चेयरमैन हैं। 1903 में इंडियन टी सेस बिल पारित किया गया था, इस बिल के द्वारा चाय के निर्यात पर सेस लगाया गया था। इस सेस से प्राप्त होने वाली राशि का उपयोग भारत में चाय के संवर्धन के लिए किया जाता था। टी बोर्ड की स्थापना 1 अप्रैल, 1954 को चाय अधिनियम, 1953 के सेक्शन 4 के तहत की गयी थी। यह एक संवैधानिक संस्था है, यह बोर्ड केन्द्रीय वाणिज्य व उद्योग मंत्रालय के अधीन कार्य करता है।

जमात-ए-इस्लामी पर प्रतिबन्ध

हाल ही में केंद्र सरकार ने जमात-ए-इस्लामी (जम्मू-कश्मीर) पर प्रतिबन्ध लगा दिया है, यह प्रतिबन्ध पांच वर्षों के लिए लगाया गया है। इस प्रतिबन्ध का कारण जमात-ए-इस्लामी के आतंकवादियों के साथ सम्बन्ध हैं। जमात-ए-इस्लामी पर प्रतिबन्ध जम्मू-कश्मीर में अलगाववादी गतिविधियों को कम करने के लिए किया गया है। जमात-ए-इस्लामी एक सामाजिक, राजनीतिक तथा धार्मिक संगठन है, इसकी स्थापना 1945 में इस्लामी धर्मशास्त्री अबुल अल मौदूदी ने की थी। केन्द्रीय गृह मंत्रालय ने गैर-कानूनी गतिविधियाँ (रोकथाम) अधिनियम के तहत जमात-ए-इस्लामी (जम्मू-कश्मीर) पर प्रतिबन्ध लगाया है। अधिसूचना में कहा गया है कि जमात-ए-इस्लामी उन गतिविधियों में शामिल है जिसके कारण देश की एकता को खतरा उत्पन्न हो सकता है।

गिनीज़ विश्व रिकॉर्ड में शामिल हुआ प्रयागराज का कुम्भ मेला

महर्षि भारद्वाज के शहर प्रयागराज में संगम तीरे 50 दिन तक चले कुंभ मेले का मंगलवार को समापन हो गया। तीन विश्व रिकॉर्ड बनाने वाले इस भव्य व दिव्य कुंभ का राज्यपाल राम नाईक के साथ सीएम योगी आदित्यनाथ ने औचपारिक समापन किया। राष्ट्रपति, उप राष्ट्रपति तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कुंभ में स्नान तथा पूजा-अर्चना की। सर्वाधिक भीड़ प्रबंधन, सबसे बड़ी स्वच्छता मुहिम, एक साथ सर्वाधिक शटल बसों के संचलन और सामूहिक पेंटिंग अभ्यास के लिए इस कुंभ का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज किया गया। 15 जनवरी मकर संक्रांति से चार मार्च तक चले दुनिया के इस सबसे बड़े धार्मिक आयोजन में देश-विदेश से आने वाले श्रद्धालुओं और पर्यटकों की संख्या भी रिकार्ड रही। यह पहला कुंभ रहा जिस दौरान कैबिनेट की बैठक भी वहां हुई। अपनी कैबिनेट सहित मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संगम स्नान किया।

कप्तान के तौर पर कोहली ने सबसे कम पारियों में 9 हजार रन पूरे किए

भारतीय कप्तान विराट कोहली ने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ नागपुर में 40वां शतक लगाया। उन्होंने 116 रनों की पारी खेली। कोहली ने कप्तान के तौर पर नौ हजार वनडे रन पूरे कर लिए। वे ऐसा करने वाले दुनिया के छठे कप्तान हैं। कोहली ने सबसे कम 159 पारियां खेलकर ये रन बनाए। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पोटिंग (204 पारी) के रिकॉर्ड को तोड़ दिया। भारतीय कप्तान विराट कोहली के वनडे क्रिकेट में 40वें शतक और उसके बाद गेंदबाजों के शानदार प्रदर्शन की बदौलत भारत ने मंगलवार को नागपुर के जामथा स्टेडियम में ऑस्ट्रेलिया को दूसरे वनडे मैच में आठ रन से जीत दिलाई। यह भारत की वनडे में 500वीं जीत है।

पहला कॉमन मोबिलिटी वन दिल्ली ऐप लॉन्च

परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने मंगलवार को दिल्ली का पहला कॉमन मोबिलिटी ऐप-वन दिल्ली लांच किया। इस ऐप को गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड करके दिल्ली मेट्रो और बस, दोनों से अपनी यात्रा प्लान की जा सकेगी। कैलाश गहलोत ने कहा कि पब्लिक ट्रांसपोर्ट को बढ़ावा देने के लिए सरकार 3000 नई बसें सड़क पर उतारने की योजना पर काम कर रही है तो वन दिल्ली-वन कार्ड, कनेक्ट दिल्ली रूट और अब वन दिल्ली ऐप लांच किया गया है।

इको फ्रेंडली ‘ग्रीन जेल’ पर उड़ान भरेगा ‘गगनयान’

भारत घोषणा कर चुका है कि अपने पहले मानवयुक्त अंतरिक्ष मिशन- गगनयान को वह 2022 तक अंजाम दे देगा। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन, इसरो) इसकी तैयारी में जुटा हुआ है। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, आईआईटी) कानपुर ने स्वदेशी अंतरिक्ष यान के लिए लाजवाब ईंधन- ग्रीन जैल तैयार कर दिखाया है। गगनयान मिशन की दिशा में यह खोज काफी महत्वपूर्ण मानी जा रही है। आईआईटी के एयरोस्पेस इंजीनियरिंग विभाग ने अंतरिक्ष यान के लिए जो विशेष ईंधन ‘ग्रीन जैल’ तैयार किया है, वह न केवल उसकी रफ्तार दोगुनी करेगा बल्कि मौजूदा ईंधन के मुकाबले 40 फीसद कम प्रदूषण करेगा।