दैनिक समसामयिकी 12 नवम्बर 2018

केन्द्रीय मंत्री अनंत कुमार का बेंगलुरु में निधन

केंद्रीय मंत्री तथा भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता अनंत कुमार का 12 नवंबर 2018 को निधन हो गया है. वे पिछले कुछ महीनों से बीमार चल रहे थे. अनंत कुमार कैंसर से पीड़ित थे. उन्होंने 59 साल की उम्र में बेंगलुरु में अंतिम सांस ली.

अनंत कुमार कर्नाटक के बेंगलुरु साउथ से सांसद थे. वे केंद्र सरकार में संसदीय कार्यमंत्री थे. उनके निधन पर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने पूरे देश में राष्ट्रध्वज आधा झुकाने का निर्देश दिया है. उनके पार्टी कार्यालय ने एक बयान में बताया कि कुमार का कैंसर और संक्रमण के बाद पैदा हुई जटिलताओं के कारण निधन हुआ. बयान में बताया गया कि वह पिछले कुछ दिनों से सघन निगरानी कक्ष में कृत्रिम जीवन रक्षक प्रणाली पर थे.

ए आर रहमान की जीवनी ‘नोट्स ऑफ़ अ ड्रीम’ का लोकार्पण किया गया

भारत के प्रसिद्ध संगीतकार एवं ऑस्कर पुरस्कार विजेता ए. आर. रहमान द्वारा हाल ही में मुंबई में अपनी जीवनी “नोट्स ऑफ़ अ ड्रीम” लॉन्च की गई. ए. आर. रहमान की यह जीवनी लेखक कृष्णा त्रिलोक द्वारा लिखी गई है.

इस पुस्तक में ए. आर. रहमान के जीवन का विस्तृत वर्णन किया गया है. इसमें उनके व्यक्तिगत जीवन से लेकर व्यावसायिक जीवन के विभिन्न पहलुओं के बारे में बताया गया है. कृष्णा त्रिलोक द्वारा लिखित, लैंडमार्क और पेंगुइन रैंडम हाउस के सहयोग से यह जीवनी मुंबई में लॉन्च की गई थी.

यमन में 70 लाख बच्चे भुखमरी से प्रभावित: यूनिसेफ

संयुक्त राष्ट्र अंतरराष्ट्रीय बाल आपात कोष (यूनिसेफ) द्वारा हाल ही में यमन में बच्चों की दयनीय हालत पर रिपोर्ट जारी की गई है. यूनिसेफ के अनुसार यमन में 70 लाख से भी अधिक बच्चे गंभीर भुखमरी का सामना कर रहे हैं.

यूनिसेफ के अनुसार वर्ष 2015 से अब तक छह हजार बच्चे मारे जा चुके हैं या गंभीर रूप से परेशान हैं. संयुक्त राष्ट्र द्वारा जारी रिपोर्ट के अनुसार दो करोड़ 22 लाख यमनी नागरिकों को भोजन की सख्त जरूरत है, जिसमें 84 लाख लोगों के गंभीर भुखमरी के शिकार होने की चेतावनी दी गयी है.

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू द्वारा फ्रांस में भारतीय सैनिकों के सम्मान में स्मारक का उद्घाटन

उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू ने प्रथम विश्वयुद्ध में शहीद भारतीय सैनिकों के सम्मान में भारत द्वारा उत्तरी फ्रांस में निर्मित पहले युद्ध स्मारक का उद्घाटन किया. उपराष्ट्रपति तीन दिवसीय यात्रा पर फ्रांस में थे.

विल्लर्स गुइसलेन कस्बे में युद्ध स्मारक के उद्घाटन के दौरान नायडू ने फ्रांसीसी सशस्त्र बलों के पूर्व सैनिकों और बच्चों से बातचीत भी की. उपराष्ट्रपति ने कहा, ‘यह उन हजारों भारतीय सैनिकों को महान श्रद्धांजलि है जिनके साहस और समर्पण को पूरी दुनिया ने सराहा है.’ आजादी के बाद यह अपनी तरह का पहला ऐसा स्मारक है जिसे भारत ने फ्रांस में बनाया है. इस स्मारक के निर्माण की घोषणा विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने जून, 2018 में अपनी पिछली पेरिस यात्रा के दौरान की थी.